Endless Charity||Inspirational Short Stories||2020

 

inspirational short story
CHARITY




आज से करीब १५० साल  पहले सऊदी अरब के एक छोटे से गाओं में एक बूढ़ी औरत रहती थी, जब वो जयादा बीमार हो गई  ओर उसके मौत का वक़्त करीब आया तो उसने अपने छोटे भाई को बुलाया जो सऊदी अरब के किसी बड़े शहर मे रहता था, भाई को बूढ़ी औरत ने अपने कुछ जेवर दिए, जो उसकी माँ ने उसे उसकी शादी मे दिए थे, इतने सालों तक जिस जेवर को वो बूढ़ी औरत संभाल कर रखी हुई थी उसे अपने भाई दो कर कहा, इसको बेच कर एक दूकान खरीद लेना ओर उस दूकान से आने वाला किराया हर महीने किसी ना किसी  गरीब की मदद करने मे लगाना, और कोशिश करना ये काम कभी ना रुके हमेशा इस  दूकान के किराये से मज़बूर लोगों की मदद होती रहे, ये उस बूढ़ी औरत की आखरी वसीयत थी. भाई बहुत ईमानदार था उसने उस जेवर को बेचा तो उस वक़्त के हिसाब से उसे १२ सऊदी रियाल मिले, जिससे वो अपने शहर मे एक छोटी सी दुकान बहन के नाम खरीद लेता है ओर उसे किराया मे लगा देता है, और जैसा बहन की वसीयत थी वो भाई वैसा ही करता,हर महीने दूकान का किराया बड़ी ही ईमानदारी के साथ बहन के नाम से गरीबों की मदद करने में लगाता. बहुत साल गुज़र गए भाई भी बूढ़ा और बीमार हो गया जब उसकी मौत का वक़्त आया तो उसने अपने बेटे को उस दूकान की ज़िम्मेदारी दे दी और कहा मेरे प्यारे बेटे  ये मेरी बहन की वसीयत में है की ये दूकान का काम रुकना नहीं चाहिए मैं अपनी पूरी जिन्दागी बहुत ईमानदारी से इस दूकान के किराया से गरीबों की मदद करता आया हूँ ,तुम भी यही करना इस नेक  काम  को रुकने मत देना.
 भाई ने जिम्मेदारी बेटे को दी और जब बेटा  बूढ़ा होगया तो उसने अपने बेटे को दूकान की ज़िम्मेदारी दे दी. इसी तरह से ४ पीढ़ी में दूकान की जिम्मेदारी जिस जिस ने ली बहुत ईमानदारी से दूकान के किराया से मज़्बूर गरीबों की मदद करते रहे .करीब १५० साल गुज़र गया अब दूकान की हालत भी बहुत ख़राब हो गई अब उसमे कोई किरायदार नहीं आता. कुछ महीनो से कोई भी किराया नहीं मिला उस दूकान से, जिस इंसान के पास अब उस दूकान की ज़िम्मेदारी थी वो सोचने लगा अब मुझे खुद इसको तोड़ कर फिर से बनाना चाहिए ताकि सालों  से जो नेक काम चलता आ रहा है वो न रुके

वो आदमी अपने पैसों से दूकान बनवाने का काम सुरु करने ही वाला था की उसके पास सऊदी गवर्नमेंट की तरफ से नोटिस आया , जिसमे लिखा था की दूकान से थोड़ी ही दूर में एक मस्जिद है जिसको बड़ा करना चाहती है सऊदी गवर्नमेंट और इसके लिए दूकान को वहा  से हटाना होगा ,इसलिए ५ लाख सऊदी रियाल में गवर्नमेंट उस दुकान को खरीदना चाहती है. नोटिस पढ़ते ही आदमी बहुत खुश हो गया .उसने बिना देर किये दूकान का सौदा कर दिया ,और ५ लाख रियाल से उसने उसी शहर में एक बहुत बड़ी बिल्डिंग बनवाई  जिसमे करीब १० फ्लैट और ८ दूकान निकला .

ये आदमी भी अपने बाप दादा की तरह बहुत ईमानदारी से बिल्डिंग से आने वाला किराया जो अब लाखों में था गरीबों की मदद को देता. ये काम आज भी चल रहा है.१५० सालो से आज तक न जाने कितने गरीब मज़बूर की मदद उस नेक औरत के दिए हुए सोने से हो चूका है. और जैसे बूढी औरत की वसीयत थी कुछ ईमानदार जिम्मेदार लोगों की वजह से १५० साल से ये काम चलता रहा नहीं रुका .

सोचने वाली बात ये है की अगर वो औरत हर औरत की तरह अपना जेवर अपनी बेटी को दे देती और फिर उसकी बेटी अपनी बेटी को तो इतने सालों में या तो वो जेवर टूट जाता या भुला जाता या डिज़ाइन पुराना हो जाता , कहने का मतलब ये है की वो बहुत कम लोगों के काम में आता. लेकिन एक औरत की एक छोटी सी नेकी हज़ारों  लोगों की मदद के काम में  आयी. 

और आगे भी कितने लोगों की उससे मदद होगी कोई नहीं जानता. किसी ने सही कहा है नेकी कर और दरिया में दाल फल की चिंता न कर. क्यों की जब इंसान साफ़ नियत से कोई भी नेकी करता है तो हमारा खुदा उसे क़ुबूल कर और भी जयादा बड़ा बना देता है, जैसा इस औरत की कहानी में हुआ. न जाने कितने गरीब मज़बूर की दुआ उस औरत को और उसके खानदान वालों को हर दिन मिलती रहती है, यही  असली दौलत है , क्यों की ज़िन्दगी आज है तो कल नहीं, लेकिन लोगों के दिल से निकली हुई दुआएं कबर में भी हमारा साथ देती है. 

Moral of this inspirationalshort story is:-


नेकी के काम हर इंसान को करनी चाहिए फिर छाहे वो कितनी ही छोटी क्यों न हो , क्या पता हमारी कौन सी नेकी किसी के काम आ जाये और उसकी दुआ से हमारी और हमारे खानदान किस्मत बदल जाये. 
                                                                                



inspirational short story



Aaj se kareeb 150 saal pehle Saudi Araba ke ek chhote se gaon mein ek budhi aurat rahati thi, jab vo jayaada beemaar ho gai or usake maut ka waqt kareeb aaya to usne apane chhote bhai ko bulaaya jo Saidi Arab ke kisi bade shahar me rahata tha, bhai ko budhi aurat ne apane kuchh jevar diye, jo uski maa ne use uski shaadi me diye the, itne saalon tak jis jevar ko vo budhi aurat sambhaal kar rakhi hui thi use apane bhai ko do kar kaha, isko bech kar ek dukaan khareed lena or us dukaan se aane waala kiraaya har maheene kisi na kisi gareeb ki madad karane me lagaana, aur koshish karna ye kaam kabhi na ruke hamesha is  dukaan ke kiraaye se mazabur logon ki madad hoti rahe, ye us budhi aurat ki aakhari waseeyat thi. Bhai bahut imaanadaar tha usne us jevar ko becha to us waqt ke hisaab se use 12 Saudi  riyaal hi mile, jisse wo apane shahar me ek chhoti sei dukaan bahan ke naam khareed leta hai or use kiraaya me laga deta hai, aur jaisa bahan ki waseeyat thi wo  bhai waisa hi karata,har maheene dukaan ka kiraaya badi hi imaanadaari ke saath bahan ke naam se gareebon ki madad karne mein lagaata .
Bahut saal guzar gaye bhai bhi  budha aur beemaar ho gaya jab usaki maut ka waqt aaya to usne apne bete ko us dukaan ki zimmedaari de di aur kaha mere pyaare bete  ye meri bahan ki waseeyat mein hai ki ye dukaan ka kaam rukana nahin chaahie main apani puri zindagi bahut imaanadaari se is dukaan ke kiraaya se gareebon ki madad karata aaya hoon ,tum bhi yahi karana is nek  kaam  ko rukane mat dena.
Bhai ne apne bete ko dukaan ki zimmedaari de di, Aur jab beta budha hua to usne apne bete ko same wasiyet ki, isi  tarah se 4 peedhee mein dukaan ki  zimmedaari jis jis ne li bahut imaanadaari se un sab ne dukaan ke kiraaya se mazboor gareebon ki madad karte rahe . Kareeb 150 saal guzar gaya ab dukaan ki haalat bhi bahut kharaab ho gayi ab usme koi kiraayadaar nahin aata. kuchh maheeno se koi bhi  kiraaya nahin mila us dukaan se, jis insaan ke paas ab us dukaan ki zimmedaari thi wo sochane laga ab mujhe khud isko tod kar phir se banaana chaahiye taaki saalon  se jo nek kaam chalta aa raha hai wo aage bhi chalta rahe kabhi na ruke.

wo aadmi apne paison se dukaan banwane ka kaam shuru karne hi wala tha  ki uske paas Saudi government ki taraf se ek  notice aya , jisme likha tha ki dukaan se thodi hei door mein ek masjid hai jisko bada karne chahti  hai Saudi government aur isake lie dukaan ko waha  se hataana hoga ,isaliye 5 laakh Saudi riyaal mein government us dukaan ko khareedna chaahati hai. Notice padhate hi aadami bahut khush ho gaya , usne bina der kiye dukaan ka sauda kar diya ,aur 5 laakh riyaal se usne usi shahar mein ek bahut badi Building banwai  jisme kareeb 10 flat aur 8 dukaan nikla.

ye aadmi bhi apne baap dada ki tarah bahut imaandaari se building se aane wala kiraaya jo ab laakhon mein tha gareebon ki madad ko de deta, ye kaam aaj bhi chal raha hai.
150 saalon se aaj tak na jaane kitane gareeb mazaboor ki madad us nek aurat ke diye hue sone se ho chooka hai. aur jaise budhi aurat ki waseeyat thi  kuchh imaanadaar zimmedaar logon ki wajah se 150 saal guzar jaane ke baad bhi  ye kaam chalta raha, nahin ruka .
Sochne waali baat ye hai ki agar wo budhi aurat har aurat ki tarah apne jewar apni beti ko de deti hai aur fir uski beti apni beti ko, to itane saalon mein ya to wo jewar toot jaata hai ya bhula jaata hai ya design puraana ho jaata hai, kehne ka matalab ye hai. ki wah bahut kam logon ke kaam aata hai. lekin ek mahila ki ek chhoti si  neki hazaaron logon ki madad ke kaam mein aayi. Aur aage bhi kitne logon ki
usse madad hogi koi nahin jaanata. Kisi ne sahi kaha hai "neki kar aur dariya mein daal fal ki chinta mat kar" kyon ki jab insaan saaf niyat se koi bhi neki karata hai to hamaara Khuda use qubool kar aur bhi  jayaada bada bana deta hai, jaisa is aurat ki kahaani mein hua. Na jaane kitane gareeb mazaboor ki Dua us aurat ko aur uske khaanadaan waalon ko har din milte rahti hai, yahi asali daulat hai. kyu ki zindagi aaj hai to kal  nahi, lekin logon ke dil se nikali hui duayen kabar mein bhi hamaara saath deti hai.
 Moral of this Inspirationalshort Story is:-

Neki ki kaam har insaan ko karni chahiye ,fir chahe wo kitna bhi chota kun na ho.
Kya pata hmaari kon si neki kisi ke kaam aa jaye, aur uski duaaon se hamaari or hamaare khaandaan ki kismat badal jaye.



Post a Comment

16 Comments

Plz do not put any negative comment.