Father's love||Inspirational short stories ||2020

inspirational short stories

 

आज नेहा लव मैरिज कर अपने पापा के पास आई, उसके पापा बहुत गुस्से में थे, पर वो बहुत सुलझे  हुए इंसान थे बस उन्होंने अपनी बेटी से इतना ही कहा मेरे घर से निकल जाओ. बेटी अपने पापा को कुछ समझने की कोशिस कर रही थी पर उसके पापा ने एक नहीं सुनी और उसको घर का दरवाजा दिखते हुए जाने को कह दिया.

कुछ साल गुज़र गए अब नेहा के पापा नहीं रहे, और जिस लड़के से नेहा ने शादी की थी वो भी उसे एक बच्चे की माँ बना कर धोका दे कर भाग गया था, नेहा की भी एक छोटी सी बेटी थी और वो अपना और अपनी बेटी के लिए एक रेस्टुरेंट में काम करने लगी थी जिससे उसका घर चलता था.


नेहा को जब ये खबर मिली की उसके पापा नहीं रहे तो उसे जयादा कोई फर्क नहीं पड़ा क्यों की उसका गुस्सा अभी भी बरक़रार था, वो उनको आखरी बार देखने के लिए भी नहीं जाना चाहती थी, पर अपने चाचा के समझने पर वो अपने पापा के घर गई. घर पर सब लोग नेहा के पापा के गुज़र जाने पर दुखी थे उनकी अंतिम यात्रा की तैयारी  कर रहे थे, पर नेहा के मन में कोई दुःख नहीं था वो चुप चाप एक कोने में कड़ी थी उसकी आँख से एक आंसू भी नहीं निकल रहा था इतना गुस्सा उसके अंदर भरा हुआ था.

कुछ दिन बीत जाने के बाद नेहा के चाचा ने नेहा को फ़ोन कर के अपने घर बुलाया, और उसके हाथ में एक खत देते हुए कहा ये तुम्हारे पापा ने तुम्हे देने के लिया कहा था पर मैं अपने काम में बिजी हो कर भूल गया था आज याद आया, ये लो इसे जरूर पढ़ना. और साथ ही नेहा को उसके पापा की घर की चाभी भी देते हुए चाचा ने कहा ये लो अब ये तुम्हारा है तुम अपने घर में  जा कर रहो.

नेहा को घर की ज़रुरत थी क्यों की वह किराया के घर में रह रही थी इसलिए दिल से नहीं पर मजबूरी में उसने घर की चाभी ले ली. अगले दिन वो अपनी बेटी के साथ उस घर में आ गई वो घर उसके पापा के बिना बहुत अधूरा सा लग रहा था नेहा के चाचा भी वह आ गए ये देखने की नेहा को किसी  चीज़ की ज़रुरत तो नहीं, चाचा ने नेहा से पूछा की उसने वो खत पढ़ी या नहीं. नेहा वो खत पढ़ना नहीं चाहती थी पर चाचा के कहने पर उसने पढ़ना शुरु  किया.

उस खत में लिखा था, मेरी पियारी गुड़िया, मुझे मालूम है तुम मुझसे नाराज़ हो पर अपने पापा को माफ़ कर दो, मैं ने तुम्हे घर से निकाल दिया था, पर यकीन जानो उस दिन के बाद मैं भी कभी सुकून से नहीं रही मेरा दिल हमेशा तुम्हारी फ़िक्र में लगा रहता, तुम्हे कैसे बताऊँ जब तुम ५ साल की थी तब तुम्हारी माँ हमें छोड़ कर चली गई थी, उस दिन के बाद से मैं ही तुम्हारी माँ और बाप दोनों बन गया था, तुम्हे तकलीफ न हो इसलिए कभी मैं ने दूसरी शादी के बारे में सोचा भी नहीं, तुम्हारा नास्ता खाना स्कूल कॉलेज हर जगह हर चीज़ में मैं तुम्हारा साथ देता और तुम भी मुझसे पूछे बिना कुछ नहीं करती थी, पर एक दिन तुम शादी  कर के मेरे सामने आई मुझसे पूछना भी ज़रूरी नहीं समझा मुझे बताया भी नहीं, वो भी उस लड़के से जिसके बारे तुम जयादा कुछ जानती बभी नहीं थी,

तुम्हारा पापा हूँ मैं ने उस लड़के के बारे में सब पता किया.. उसने न जाने कितनी ही लड़कियों को धोका दिया था, मैं तुम्हे समझाना चाहता था पर तुम तो उस वक़्त उसके प्यार में अंधी थी बिना मिझसे पूछे ही शादी कर ली. मेरे कितने अरमान थे तुम्हारी शादी को ले कर, पर तुमने मेरे सारे खवाब को तोड़ दिया.

खैर इन बातों का अब कोई मतलब नहीं है, मेरी गुड़िया मैं ने ये घर और कुछ ज़मीन और जिस रेस्टोरेंट् में तुम काम करती हो वो सब तुम्हारे नाम कर दी है और अलमारी में तुम्हारी माँ के कुछ जेवर है और कुछ मैं ने तुम्हारी शादी के लिए बनवाये थे  वो सब भी तुम्हारे है, मेरी पियारी गुड़िया मैं ने तुम्हारी गुड़िया के लिए भी एक तोफा अलमारी में रखा है उसे ज़रूर देना जब वो बड़ी हो जाये उसके नाना की तरफ से, और आखिर में बस इतना ही कहूंगा मेरी गुड़िया काश तुमने मुझे समझा होता, मैं तुम्हारा दुश्मन नहीं था तुम्हारा पापा थे जिससे हर पल तुम्हारी ही  फ़िक्र लगी रहती थी. तुम्हे खुद से दूर कर के देखो मैं अपनी ज़िन्दगी से ही दूर हो गया. अब तो तुम भी माँ हो औलाद के दूर होने का दर्द क्या होता है तुम भी महसूस कर सकती हो, लेकिन मैं अपने खुदा से यही मांगता हूँ की तुम्हे कभी भी ये दर्द न देखना पड़े| एक ख़राब बाप समझ कर ही मुझे माफ़ कर देना मेरी प्यारी गुड़िया..

और खत के साथ ही एक ड्राइंग लगी हुई थी, जो खुद कभी नेहा ने अपने बचपन में बनाई थी, और उसमे लिखा था लव यू मेरे पापा |


इतने में नेहा के चाचा आ गए उसने रोते रोते saari खत की बात अपने चाचा को बताई, फिर एक बात चाचा ने कहा की जानती हो नेहा बेटी तुम जिस रेस्टोरेंट में काम कर रही थी वहां  तुम्हे देखने तुम्हारे पापा रोज़ आते थे और दूर खड़े देखते रहते और रोते रहते, तुम्हे इस तरह काम करते देख उनका दिल बहुत दुखी होता था, फिर उन्हों ने वो रेस्टोरेंट ही तुम्हारे लिए खरीद लिया. जो पैसा उनको अपने इलाज़ में लगाने थे वो उनको रेस्टोरेंट खरीदने में लगा दिए..

Moral of this inspirational short story is:-

औलाद चाहे माँ बाप से कितनी ही नफरत क्यों न करे माँ बाप कभी भी अपनी औलाद से नारत नहीं कर सकते.

औलाद चाहे अपने माँ बाप को छोड़ दे पर माँ बाप मरने के बाद भी औलाद को दुआ ही देते है.


                                                                                                                                            



inspirational short stories


Aaj Neha love  marriage kar apane paapa ke paas aai, usake paapa bahut gusse mein the, par wo bahut sulajhe  hue insaan the bas unhonne apanee betee se itana hi kaha mere ghar se nikal jao. Beti apne paapa ko kuchh samajhane ki koshish kar rahi thi par usake paapa ne ek nahin suni aur usako ghar ka darawaaja dikhate hue jaane ko kah diya.

kuchh saal guzar gae ab Neha ke paapa nahin rahe, aur jis ladke se Neha ne shaadi ki thi wo bhi use ek bachche ki maan bana kar dhoka de kar bhaag gaya tha, Neha ki bhi ek choti si  beti  thi aur wo apna aur apani beti ke lie ek restaurant mein kaam karane lagi thi jisse uska ghar chalta tha.


Aaj jab Neha ko ye khabar mili ki uske paapa nahin rahe to use jayaada koi farq  nahin pada kyun ki uska gussa abhi bhi barqaraar tha, wo unko aakharee baar dekhane ke lie bhi nahin jaana chaahati thi, par apne chaacha ke samajhane par wo apne paapa ke ghar gai, ghar par sab log neha ke paapa ke guzar jaane par dukhi the unaki antim yaatra ki taiyaari  kar rahe the, par neha ke man mein koi duhkh nahin tha wo chup chaap ek kone mein kadi thi usaki aankh se ek aansoo bhi nahin nikal raha tha itana gussa uske andar bhara hua tha.

kuchh din beet jaane ke baad Neha ke chaacha ne neha ko phone kar ke apane ghar bulaaya, aur usake haath mein ek khat dete hue kaha ye tumhaare paapa ne tumhe dene ke liya kaha tha par main apane kaam mein busy ho kar bhool gaya tha aaj yaad aaya, ye lo ise jaroor padhana. aur saath hi Neha ko uske paapa ki ghar ki chaabhi bhi dete hue chaacha ne kaha ye lo ab ye tumhaara hai tum apane ghar me ja kar raho. 


Neha ko ghar ki zaroorat thi,kyun ki wah kiraaya ke ghar mein rah rahi thi isliye dil se nahin par majboori  mein usne ghar ki chaabhi le li. Agale din wo apani beti  ke saath us ghar mein aa gai wo ghar uske paapa ke bina bahut adhoora sa lag raha tha Neha ke chaacha bhi waha aa gae ye dekhane ki Neha ko kisi  cheez ki zarurat to nahin, chaacha ne Neha se poochha ki usne wo khat padhi ya nahin. Neha vo khat padhana nahin chaahati thi par chaacha ke kahane par usane padhana shuru  kiya.


Us khat me likha tha meri piyaari gudiya, mujhe maaloom hai tum mujhse naaraaz ho par apane paapa ko maaf kar do, main ne tumhe ghar se nikaal diya tha, par yakeen jaano us din ke baad main bhi kabhi sukoon se nahin raha mera dil hamesha tumhaari fikr mein laga rahata, tumhe kaise bataoon jab tum 5 saal ki thi tab tumhaari maa hamen chhod kar chali gai thi , us din ke baad se main hi tumhaari maa aur baap donon ban gaya tha, tumhe taqlif na ho isliye kabhi main ne doosari shaadi ke baare mein socha bhi nahin, apni saari zindagi main ne tumhaare naam kar diye, tumhaara naasta khana sona jaagna school college har cheez me har jagah main tumhara sath deta tumhe kabhi akela pan  nahi mehsoos hone deta. Aur tum bh mujhse poochhe bina kuchh nahin karati thi, par ek din tum shaadi kar ke mere saamane aa gai mujhse poochna bhi zaroory nahin samajha mujhe bataaya bhi nahin, wo bhi us ladake se jisake baare tum jayaada kuchh jaanati bhi nahin thi.

Tumhaara papa hun main ne us ladke  ke baare mein sab pata kiya.. usne  na jaane kitni hi ladakiyon ko dhoka diya tha, main tumhe samajhaana chaahata tha par tum to us waqt uske pyaar mein andhi thi bina mijhse poochhe hi shaadi kar li. . mere kitne armaan the tumhaari shaadi ko le kar, par tumne mere saare khawab ko tod diya.

khair in baaton ka ab koi matalab nahin hai, meri gudiya main ne ye ghar, aur kuchh zameen, aur jis restaurant mein tum kaam karti ho wo sab tumhaare naam kar diye hai aur alamaari mein tumhaari maa ke kuchh jewar hai aur kuch jewar main ne tumhaari shaafi ke liye banwaye the wo bhi hai or ek tofa meri gudiya ki gudiya ke liye uske nana ki taraf se hai jab wo badi ho jaye to use de dena. Aur aakhir me bas itna kahoonga meri gudiya kaash tumane mujhe samajha hota, main tumhaara dushman nahin tha tumhaara paapa tha, jisse har pal tumhaari hi  fikr lagi rahati thi.Tumhe khud se door kar ke dekho main apani zindagi se hi door ho gaya. Ab to tum bhi ek bachchi ki  maa ho aulaad ke door hone ka dard kya hota hai tum bhi mahasoos kar sakati ho, lekin main apne khuda se yahi maangata hoon ki tumhe kabhi bhi ye dard na dekhana pade, 

ek kharaab baap samajh kar hi mujhe maaf kar dena meri pyaari gudiya..

aur khat ke saath hee ek drawing bhi lagi hui thi jo khud bachpan me neha ne banayi thi, jispar likha hua tha" I Love you " mere papa.

Itne me Neha ke chacha bhi aa gaye Neha  rote rote saari khat ki baat apane chaacha ko batane lagi, phir ek baat chaacha ne kaha ki jaanati ho neha beti tum jis restaurant mein kaam kar rahi thi wahan  tumhe dekhane tumhaare paapa roz aate the aur door khade dekhate rahte aur rote rahte the, tumhe is tarah kaam karte dekh unaka dil bahut dukhi hota tha, phir unhon ne wo restaurant hi tumhaare liye khareed liye. jo paisa unko apane ilaaz mein lagaane the wo unho ne tumhaare liye restaurant khareedne mein laga die..

Moral of this inspirational short story is

Aulaad chahe maa baap se kitni hi nafrat kyun na kare maa baap kabhi bhi apani aulaad se nafrat nahin kar sakte.

aulaad chaahe apane maan baap ko chhod de, par maa baap marne ke baad bhi aulaad ko dua hi dete hai.



Post a Comment

12 Comments

Plz do not put any negative comment.