The power of words, Inspirational short story, 2020, Hindi

The power of words 




एक बादशाह ने ख्वाब देखा की उसके सारे दांत टूट कर गिर गए है, सुबह उठते ही बादशाह बहुत परेशान हुआ की ये कैसा ख्वाब मेने देखा है इसका क्या मतलब हो सकता है, तुरंत ही बादशाह ने कहा ख्वाब का मतलब जो बताना जनता है ऐसे इंसान को मेरे पास लाया जाये,  थोड़ी देर बाद एक बहुत ही माहिर नजूमी को बादशाह के सामने लाया गया, नजूमी बहुत ही काबिल था ख्वाब सुनते ही बोला बादशाह सलामत इसका मतलब ये है की आप के घर वाले, आपके खानदान वाले, आपके सारे बच्चे आप के सामने एक एक कर के मर जायेंगे और आप सब को अपने सामने मरता हुआ देखेंगे. ये सब सुन कर बादशाह का खून खोल गया उसने फ़ौरन सिपाहियों को बुला कर कहा इस पागल नजूमी को ले कर जाओ और इसको फ़ासी लगा दो ये मेरे परिवार की मरने की बात करता है इसकी हिम्मत कैसे हुई इसको मैं सजा - ये - मौत देता हूँ.


फिर बादशाह ने कहा दूसरे नजूमी को बुलाया जाये, बादशाह के हुकुम से एक दूसरा नजूमी पेश किया गया उसे भी सारा ख्वाब बताया गया की बादशाह ने अपने सारे दांत को
टूट कर गिरते हुए देखा है, इसका क्या मतलब हो सकता है, नजूमी बहुत होशियार था उसने मुस्कुराते हुए कहा बादशाह सलामत आपका ख्वाब तो बहुत अच्छा है, आपके ख्वाब का मतलब ये है की आपको आपके घर वाले, खानदान वाले, और आपके बच्चो से जयादा लम्बी ज़िन्दगी मिलेगी.

बादशाह ये सुन कर बहुत खुश हुआ उसने बहुत सारे ईनाम नजूमी को तोफे की तौर पर दे कर उसको रवाना किया.


inspirational short stories




यहाँ पर देखने वाली बात ये है की दोनों नजूमी ने एक ही बात बताई बस बताने का तरीक़ा अलग अलग था, जिसकी वजह से एक को मौत की सजा मिली और दूसरे को इनाम मिला.

ऐसा इस लिए हुआ की पहले वाले नजूमी को बात करने का सलीका नहीं था शब्दों का इस्तेमाल करने का सही  तरीका नहीं  पता था इसलिए बेचारे को फांसी की सजा  मिली, वहीँ दूसरी तरफ दूसरे नजूमी ने वही बात इस अंदाज़ से कही की उसको इनाम से नवाज़ा गया.

इसलिए याद रखें की बात करने का भी एक लहज़ा होता है हम किस्से बात कर रहे है उसकी क्या मेंटालिटी ही उसकी क्या नफ़सियात है इसका ख्याल रखना पड़ता है. सिर्फ सच बोलने से नहीं होता बोलने का अलफ़ाज़ और सलीक़ा भी आना चाहिए. एक बात को बोलने का सही अंदाज़ किसी के दिल में ख़ुशी पैदा कर सकता है तो गलत ढंग से बोलै गया वही अल्फ़ाज़ किसी का दिल तोड़ भी सकता है.

क्यों की अलफ़ाज़ ही सब कुछ होते है जो दिल जीत भी लेते है और दिल तोड़ भी देते है, साँपों का जहर उनके दांतों में होता है बिच्छूओं का जहर उनके डंक में होता है लेकिन इंसान अपने अलफ़ाज़ से जहर उगल सकता है,बात करने के लिए इंसान  अपना  मुँह खोलता है लेकिन उसके शब्दों के पीछे उनके बड़ों की तरबियत उनके संस्कार बोलते है , "इसलिए जब भी बोलो  पहले तोलो फिर बोलो" . एक अच्छे इंसान का गुजारा उसके साथ तो हो सकता है जिसकी तबियत ख़राब है लेकिन उसके साथ नहीं हो सकता जिसकी तरबियत ख़राब है.


  शब्दों का सलीक़ा हर इंसान को आना चाहिए इससे उनकी तरबियत का पता चलता है, एक समझदार सुलझा हुआ इंसान सामने वाले इंसान की समझ को देख कर उससे बात करता है. 

"इंसान को इंसान  की नज़र से तोलिये , दो शब्द ही सही मगर प्यार से बोलिये".



Ek baadshah ne khwab dekha ki uske saare daant toot kar gir gae hai, subah uthate hi baadshah bahut pareshaan hua ki ye kaisa khwab mene dekha hai iska kya matlab ho sakta hai, turant hi baadshah ne kaha khwab ka matlab jo bataana janata hai aise insaan ko mere paas laaya jaaye,  thodi der baad ek bahut hi maahir najumi ko baadshaah ke saamane laaya gaya, najumibbahut hi kaabil tha khwab sunte hi bola baadshaah salaamat iska matlab ye hai ki aap ke ghar waale, aapake khaanadaan waale, aapake saare bachche aap ke saamane ek ek kar ke mar jaayenge aur aap sab ko apane saamane marta hua dekhenge. ye sab sun kar baadshaah ka khoon khol gaya usne fauran sipaahiyon ko bula kar kaha is paagal najumi ko le kar jao aur isko fansi laga do ye mere pariwaar ki marne ki baat karta hai isaki himmat kaise hui isko main saja - e - maut deta hoon. phir baadshaah ne kaha dusre najumi ko bulaaya jaaye, baadashaah ke hukum se ek dusra najumi pesh kiya gaya use bhi saara khwaab bataaya gaya ki baadshaah ne apane saare daant ko toot kar girate hue dekha hai, iska kya matalab ho sakata hai, najumi bahut hoshiyaar tha usne muskuraate hue kaha baadashaah salaamat aapaka khwaab to bahut achchha hai, aapake khwaab ka matalab ye hai ki aapko aapke ghar waale, khaanadaan waale, aur aapake bachcho se jayaada lambi zindagi milegi. 

"VALUE YOUR WORDS EACH ONE MAY BE THE LAST"


baadshaah ye sun kar bahut khush hua usne bahut saare inaam najumi ko tofe ki taur par de kar usko rawaana kiya.


yahaan par dekhne waali baat ye hai ki donon najumi ne ek hi baat batai, bas bataane ka tareeqa alag alag tha, jiski wajah se ek ko maut ki saja mili aur dusre ko inaam mila.


aisa isliye hua ki pahle wala najumi ko baat karne ka saleeka nahin tha shabdon ka istemaal karne ka sahi  tariqaa nahin  pata tha isliye bechaare ko fansi ki saja  mili,wahin  dusri taraf dusre najumi ne wahi baat is andaaz se kahi ki usko inaam se nawaaza gaya.


isaliye yaad rakhen ki baat karne ka bhi ek lahaza hota hai ham kisse baat kar rahe hai usaki kya mentaaliti hai usaki kya nafasiyaat hai isaka khyaal rakhana padata hai. sirf sach bolne se nahin hota bolne ka alfaaz aur saleeqa bhi aana chahiye . ek baat ko bolne ka sahi andaaz kisi ke dil mein khushi paida kar sakata hai to galat dhang se bola gaya wahi alfaaz kisi ka dil tod bhi sakata hai.


kyun ki alfaaz hi sab kuch hota hai jo dil jeet bhi leta hai aur dil tod bhi deta hai, saanpon ka jahar unke daanton mein hota hai, bichchhuon ka jahar unke dank mein hota hai lekin insaan apane alfaaz se jahar ugal sakata hai. 

Baat karne ke liye insaan  apana  munh kholata hai lekin uske shabdon ke peechhe unke badon ki tarbiyat unke sanskaar bolte hai , "isliye jab bhi bolo  pahle tolo phir bolo". 


inspirational short stories



 Ek achche insaan ka gujaara uske saath to ho sakata hai jiski tabiyat kharaab hai lekin uske saath nahin ho sakata jiski tarbiyat kharaab hai.



shabdon ka saleeqa har insaan ko aana chaahie isse unki tarbiyat ka pata chalata hai, ek samajhadaar sulajha hua insaan saamane waale insaan ki samajh ko dekh kar usse baat karta hai. 


MORAL OF THIS INSPIRATIONAL SHORT STORY :-

"insaan ko insaan  ki nazar se toliye , do shabd hi sahi magar pyaar se boliye.. "







Post a Comment

9 Comments

Plz do not put any negative comment.