Hard work ||Inspirational Short Story||2020

inspirational short story



आज की ये Inspirational Short Story  बहुत ही छोटी मगर बहुत जयादा Valuable है. 

एक बड़ी सी बिल्डिंग के छत के एक कोने में एक नन्ही सी चिड़ियाँ ने अपना घोसला बनाया ,और उसमे अंडे दिए . वो छोटी सी चिड़िया अपने घोसले की  हर तरह से हिफाज़त करती कभी किसी को उसके करीब नहीं आने देती , चिड़ियाँ बहुत ही बेसब्री से अपने बच्चों के बहार आने का इंतज़ार करने लगी. एक दिन चिड़ियाँ खाने का तलाश में बिल्डिंग से बहार गई , जब वह वापिस अपने घोसले की तरफ लौट रही थी तभी उसकी नज़र एक जलति  हुई सिगरेट पे पड़ी , किसी इंसान ने  बिना बुझाये फेक दिया था और वो बिल्डिंग की  मुख्या इलेक्ट्रिसिटी की तारों के बिच में जा कर फास गया था, हालाँकि मुख्या इलेक्ट्रिसिटी की सभी तार एक लोहे के बड़े से अलमारी में थे लेकिन आज उसका दरवाजा किसी ने खुला छोड़ दिया और शायद गलती से जलती हुई सिगरेट बिजली की तारों के बिच जा कर फास  गई .
बिल्डिंग के अंदर बहार हर वक़्त लोग आना जाना कर रहे थे लेकिन किसी की भी नज़र उस सिगरेट पर नहीं पड़ी , चिड़ियाँ जलती हुई सिगरेट को देख कर आने वाली मुसीबत को भाप गई, 

वो जोड़ जोड़ से आवाज़ लगा कर लोगों का धियान उस सिगरेट की तरफ करने की कोशिश करती रही पर कोई फ़ायदा न हुआ, फिर वो खुद ही कभी अपने नन्हे पैरों से तो कभी अपनी मासूम चोंच से जलती हुई सिगरेट को निकालने की कोशिश करने लगी मगर वो इलेक्ट्रिक तारों के बिच में जा फसा था जिसकी वजह से बेचारी चिड़ियाँ उसे निकाल नहीं पाई।  अब धीरे धीरे तार के ऊपर वाली प्लास्टिक में आग लग्न शुरू  होने वाला था।  चिड़ियाँ बहुत दर गई उसे लगा अगर बिल्डिंग में आग लग गई तो उसका घोसला जल जायेगा उसके अंडे भी जल जायेंगे, जल्दी से नन्ही चिड़ियाँ बिल्डिंग से थोड़ी दूर में एक तालाब था उसमे से जा कर अपनी चोंच में पानी भर कर लेन लगी ताकि वो सिगरेट को बुझा सके लेकिन उसे मालूम न था की इलेक्ट्रिक में लगी आग को पानी से नहीं बुझाना चाहिए।  जब वो अपनी कोशिश में लगी हुई थी तभी कुछ बच्चे वहा आ गए और चिड़ियाँ को देख कर उसके साथ खेलने की नियत से उसे पकड़ने लगे, बेचारी चिड़ियाँ बच्चों से डर कर कभी इधर भागती तो कभी उधर।  वक़्त गुज़रता जा रहा था किसी भी समाये आग लग सकती थी लाख कोशिश करने के बाद भी बेचारी चिड़ियाँ कामयाब नहीं हो पा रही थी। उसी वक़्त एक बुजुर्ग आदमी वहां आगये बच्चों को उन्होंने रोका की किसी को परेशान नहीं करते है और उन्हें वहां से जाने को कहा।  चिड़ियाँ बहुत उम्मीद से बुजुर्ग की तरफ देखने लगी और जा कर उनके हाथ में बैठ गई और आवाज़ निकाल कर इशारे से समझाने की कोशिश करने लगी , लेकिन बुजुर्ग समझ नहीं पा रहे थे , तो चिड़ियाँ उड़ कर गई और फिर से अपने नन्हे पैरों से सिगरेट को निकालने की कोशिश करने लगी जिसकी वजह से उसके पैरों में जलन भी होने लगा , जैसे ही बुजुर्ग ने ये सब देखा वो हैरत में पड़ गए फ़ौरन ही चिड़ियाँ को वहां से हटा कर सिगरेट को निकाला और बुझा कर कूड़ादान में दाल दिए , बुजुर्ग के लिए ये सिर्फ कुछ सेकंड का काम था, लेकिन उसी काम को करने के लिए बेचारी चिड़ियाँ कितनी देर से कोशिश कर रही थी  , बुजुर्ग चिड़ियाँ की तरफ हैरत से देख रहे थे की,  आज उन सब की जान एक छोटी सी चिड़ियाँ की वजह से बच गई। चिड़ियाँ भी काफी देर तक बुजुर्ग की तरफ ऐसे देखती रही जैसे की उनका शुक्रिया अदा कर रही है। फिर वो उड़ कर बिल्डिंग के ऊपर अपने घोसले में चली गई। 


एक छोटी सी जान की लगातार करने वाली कोशिश की वजह से एक बड़ी सी बिल्डिंग में आग लगने से बच गया।  चिड़ियाँ ने ना सिर्फ अपने अण्डों को जलने से बचाया बल्कि बिल्डिंग में रहने वाले हर इंसान की जान भी बचा ली। 

Moral of this inspirational short story is:-


मुसीबत चाहे कितनी ही बड़ी क्यों न हो हमें सब्र और हिम्मत का दामन नहीं छोड़ना चाहिए। लगातार करने वाली कोशिश से हम कुछ भी हासिल कर सकते है। 

कभी खुद को कमजोर समझ कर कोशिश करना नहीं छोड़ना चाहिए।  

                                                                                                                                                      

                                                                                                                                                                  

inspirational short story


Aaj ki ye inspirational short story bahut hi choti magar bahut jayaada valuable hai.
Ek badi si building ke chhat ke ek kone mein ek nanhi si chidiyaan ne apna ghosala banaaya ,aur usame ande die . wo chhoti si chidiya apane ghosale ki har tarah se hifazat karati kabhi kisi ko uske kareeb nahin aane deti , chidiya bahut hi besabri se apane bachchon ke bahaar aane ka intazaar karane lagi. Ek din chidiya khaane ka talaash mein building se bahaar gai , jab wah waapis apane ghosale kee taraf laut rahi thi tabhi usaki nazar ek jalati hui cigarette pe padee , kisee insaan ne bina bujhaaye fek diya tha aur vo building ki mukhya electricity kee taaron ke bich mein ja kar fas gaya tha, haalaanki mukhya electricity ki sabhi taar ek lohe ke bade se alamaari mein the lekin aaj usaka darawaaja kisee ne khula chhod diya aur shaayad galati se jalati hui cigarette bijli ki taaron ke bich ja kar fas gai . 
building ke andar bahaar har waqt log aana jaana kar rahe the lekin kisi ki bhi nazar us cigarette par nahin padi , chidiyaan jalati hui cigarette ko dekh kar aane waali museebat ko bhaap gai.

wo jod jod se aawaaz laga kar logon ka dhiyaan us cigarette ki taraph karane ki koshish karti rahi par koi faida na hua, phir wo khud hi kabhi apne nanhe pairon se to kabhi apani maasoom chonch se jalati hui cigarette ko nikaalane ki koshish karane lagi magar wo electric taaron ke bich mein ja phasa tha jisaki wajah se bechaari chidiyaan use nikaal nahin pai. Ab dheere dheere taar ke upar waali plaastic mein aag lagna shuroo hone waala tha. chidiyaan bahut dar gai use laga agar building mein aag lag gai to usaka ghosala jal jaayega usake ande bhi jal jaayenge, jaldi se nanhee chidiyaan building se thodee dur mein ek taalaab tha usme se ja kar apani chonch mein paani bhar kar lene lagi, taaki wo cigarette ko bujha sake lekin use maaloom na tha ki electric mein lagi aag ko paani se nahin bujhaana chaahie. Jab wo apani koshish mein lagi hui thi tabhi kuchh bachche waha aa gae aur chidiyaan ko dekh kar usake saath khelne ki niyat se use pakadane lage, bechaari chidiyaan bachchon se dar kar kabhi idhar bhaagati to kabhi udhar. Waqt guzarata ja raha tha kisee bhi samay aag lag sakati thi laakh koshish karane ke baad bhi bechaari chidiyaan kaamayaab nahin ho pa rahi thi. Usi waqt ek bujurg aadami wahaan aagaye bachchon ko unhonne roka ki kisi ko pareshaan nahin karte hai, aur unhen wahaan se jaane ko kaha. Chidiyaan bahut ummeed se bujurg ki taraf dekhane lagi aur ja kar unke haath mein baith gai aur aawaaz nikaal kar ishaare se samajhaane ki koshish karane lagi , lekin bujurg samajh nahin pa rahe the, to chidiyaan ud kar gai aur phir se apane nanhe pairon se cigarette ko nikaalane ki koshish karane lagi jisaki wajah se uske pairon mein jalan bhi hone lagi , jaise hi bujurg ne ye sab dekha wo hairat mein pad gaye fauran hi chidiyaan ko wahaan se hata kar cigarette ko nikaala aur bujha kar kudadaan mein daal diye , bujurg ke lie ye sirph kuchh second ka kaam tha, lekin usi kaam ko karane ke lie bechaari chidiyaan kitani der se koshish kar rahi thi , bujurg chidiyaan ki taraf hairat se dekh rahe the ki, aaj un sab ki jaan ek chhoti si chidiyaan ki wajah se bach gai.Chidiyaan bhi kaafi der tak bujurg ki taraf aise dekhati rahi jaise ki unka shukriya ada kar rahi hai, fhir wo ud kar building ke upar apane ghosale mein chali gai.

Ek chhoti si jaan ki lagaataar karane waali koshish ki wajah se ek badee si building mein aag lagane se bach gaya. chidiyaan ne na sirf apane andon ko jalne se bachaaya balki building mein rahane waale har insaan ki jaan bhi bacha li.

Moral of this Inspirational Short Story is:-

museebat chaahe kitani hi badi kyon na ho hamen sabr aur himmat ka daaman nahin chhodana chaahie. Lagaataar karane waali koshish se ham kuchh bhi haasil kar sakate hai.

Kabhi khud ko kamajor samajh kar koshish karana nahin chhodana chaahie
         


THANKS FOR READING..      

Post a Comment

12 Comments

Plz do not put any negative comment.