Princess||Inspirational short stories ||2020

inspirational short stories
Princess palace 


एक बार की बात हैएक छोटे से राज्य के राजा जिसकी तीन बेटी थी। राजा अपनी बेटियों से बहुत मोहब्बत करता था और उसने  एकदिन यह जानने की कोशीश की कि इन तीनों बेटियों में से कौन है जो उससे सबसे ज्यादा मोहब्बत करती है। इसलिए राजा ने अपनीबेटियों को बुलाया और उनसे  कहा  कि मैं एक महीने के लिए दूसरे राज्यों में जा रहा हूँ ,और इस बीच मेरा ये फैसला है कि तुम तीनोअच्छे से खाना बनाना सीखो ओर जब मैं वापिस आऊँ तो मैं तुम तीनो के हाथ का बना खाना खाऊँगा ओर जिसका खाना मुझे सब सेज़्यादा पसंद आएगा उसे मैं एक क़ीमती तोफ़ा दूँगा.

और साथ में यह भी कहा कि जब मैं वापस आऊँ तो मैं चाहता हूँ कि तुम तीनों अपने हिसाब से मेरे लिए कपड़ा बना कर मुझे तोफ़ा दोजिसे देख कर मैं खुश हो जाओ। 


अपने पिता का फैसला सुनकर तीनों बेटियां बहुत ही खुश हो गईं और उन्होंने हाँ में सर हिलाते हुए कहा कि हम पूरी मेहनत कर के बहुतअच्छे से खाना बनाना सीख जाएंगे और हम आपके लिए बहुत ही अच्छा सुन्दर कपड़ा भी बनाकर रखेंगे जिसे देखकर आप बहुत खुश होजाएंगे। बेटियों की बात सुनकर राजा भी बहुत ही ज्यादा खुश हो गया और फिर अगले दिन वह अपने सफ़र पर निकल गया।

तीनो बेटियाँ अपने अपने हिस्सब से पूरी मेहनत करने लगी ओर  तरह तरह के खाना बनाना सीखने लगी ओर साथ ही अपने पिता के लिएसुंदर कपड़ा भी बनाने लगी 


देखते ही देखते महीना गुजर गया और राजा के आने का वक्त हो हो गया। जिस दिन राजा महल में आने वाला था। तीनों ने बहुत सारीतैयारियाँ कि अलग अलग दस्तरखान बिछाए और उसे तरह तरह के पकवान से सजायें जिसे उन्होंने अपने हाथों से बनाया था। हर बेटीकी यह ख्वाहिश थी कि उसका दस्तरखान सबसे ज्यादा अच्छा लगे उसके पिता को।


आखिर वो वक्त  ही गया जब राजा अपनी बेटियों के साथ है। उनके दस्तरखान की तरफ खाने के लिए बढ़ा। सबसे पहले वह अपनीसबसे बड़ी बेटी के दस्तरखान में जाकर बैठा। राजा खाने की तरफ देखते ही बहुत ही ज्यादा खुश हो गया क्योंकि उसमें तरह तरह केपकवान सजे हुए थे और साथ ही उसमें से बहुत ही खुशबूदार महक  रही थी। राजा थोड़ा थोड़ा करके हर खाने को चखता है औरखाना बहुत ही स्वादिष्ट  होने की वजह से वह अपनी बेटी से बहुत ही खुश होता है और उसके सिर पर हाथ रखते हुए उसे बहुत सारीदुआएँ देता है।


उसके बाद राजा अपनी दूसरी बेटी के साथ उसके दस्तरख़ान में जा कर बैठते हैं। दूसरी बेटी ने भी बहुत ही स्वादिष्ट खाना बनाया थाजिसे देखते ही राजा बहुत खुश हो जाता है और उसका खाना खाने में बहुत स्वादिष्ट होता है तो राजा उससे बहुत ही खुश होकर उसकेसर पर हाथ रखकर बहुत सारी दवाई देता। 

आखिर में राजा अपनी सबसे छोटी और सबसे प्यारी बेटी के दस्तरखान पर जाकर बैठता है। छोटी बेटी का दस्तरख़ान भी बहुत तरह तरहके पकवान से सजे हुए थे और उसमें से बहुत ही खुशबूदार महक भी  रही थी। राजा बहुत ही खुशीखुशी उसके खाने को भी चखनाशुरू करता हैलेकिन उसके खाने में कोई स्वाद ही नहीं था , राजा बारी बारी हर पकवान जो भी उसने बनाए थे सब कुछ चखता है लेकिनउसमें कोई स्वाद नहीं होता। खाना सिर्फ देखने में ही अच्छा होता है और सुगंध में ही अच्छा होता हैलेकिन खाने में बिल्कुल भी स्वाद नहींथा 


राजा बहुत ही गुस्से से अपनी छोटी बेटी की तरफ देखता है मगर उससे कुछ नहीं कहता और वह वहाँ से उठकर चुपचाप अपने कमरे कीतरफ चला जाता है। राजा अपने कमरे में जाकर अपनी छोटी बेटी के बने हुए खाने के बारे में सोचता रहता है और वह यह सोचता है किलगता है उसकी छोटी बेटी उससे बिल्कुल भी मोहब्बत नहीं करती। एक महीने का वक्त गुजर गयालेकिन वह अच्छा से खाना बनाना भीनहीं सीख पायीं। कुछ देर गुजर जाने के बाद राजा अपनी तीनों बेटियों को अपने कमरे में बुलाता है। राजा के बुलवाने पर जब तीनोंबेटियां उनके कमरे में जाती हैतब उनके हाथ में एक एक तोफ़ा होता है। यह वही कपड़ा होता है जो वो तीनो महीने भर से बना रही थीअपने पिता के लिए।


बड़ी बेटी अपने पिता के सामने जाती है और अपने बनाया हुआ कपड़ा उनके सामने पेश करते हुए कहती है कि मैने बहुत ही मेहनत सेआप के लिए बनाया है इसमें मैने सारा काम सोने के धागे से किए हैंराजा कपड़ा को देखते ही बहुत ही खुश हो जाता है,कपड़ा वाकई मेंबहुत ही ज्यादा सुन्दर था।


दूसरी बेटी भी अपने पिता के सामने अपने कपड़े को पेश करती है और साथ ही वह अपने पिता के हाथ को चूमते  हुए कहती हैं कि मैनेआपके लिए ये कीमती कपड़ा बहुत ही मेहनत से बनाए हैं। इसमें मैने बहुत तरह तरह के कीमती पत्थरहीरे और मोती से काम किएताकि जब आप इसे पहनकर निकले लोग इसे देखते ही आपके शानो शौकत का अंदाजा लगा सकें। दूसरी बेटी का तोहफा देने काअंदाज और उसके तोफ़ा में इतनी सुंदर किए हुए काम को देखकर पिता बहुत ही ज्यादा खुश हो जाता है।


आखिर में राजा ने अपनी छोटी बेटी की तरफ इशारा करते हुए कहते हैं कि तुमने क्या बनाया है मेरे लिएवो लेकर मेरे  पास  आओ मैंदेखना चाहता हूँ। लेकिन छोटी बेटी पिता की बात सुनकर भी अपनी जगह से नहीं हिलती और वह सिर झुकाए वहीं पर खड़ी रहती है।


राजा की दुबारा बुलवाने पर छोटी बेटी आगे बढ़ती है और अपना बनाया हुआ तोहफा राजा के सामने पेश करती है। राजा जब अपनीछोटी बेटी के तोहफे की तरफ देखता है तो उसे बहुत ही ज्यादा गुस्सा आता है क्योंकि कपडा बिलकुल ही साधारण सा था। उसमें कोईभी कीमती चीज़ लगाए नहीं गए थे।


राजा बहुत ही गुस्से में अपनी जगह से खड़ा होता है और छोटी बेटी के दिए तोहफे को उठाकर फेंक देता है और अपने पास से दो कीमतीहार निकाल कर एक अपनी बड़ी बेटी और दूसरा अपनी दूसरी बेटी के गले में पहना देता है और साथ ही अपनी छोटी बेटी को बहुत हीज्यादा गुस्से भरी निगाह से देखते हुए कहता है। कि तुम्हारी नजर में मेरी कोई अहमियत नहीं। तुम मुझसे बिल्कुल भी मोहब्बत नहींकरती। मैने कहा था मेरे लिए खाना बनाना सीखोमैने कहा था मेरे लिए सुंदर सा कपड़ा बना  कर रखना पर ये तुमने क्या कियातुमनेना ही खाना अच्छा बनाया और ना ही कपड़ा  


छोटी बेटी राजा से कुछ कहना चाहती थीलेकिन राजा इतनी ज्यादा गुस्से में था कि वह उसकी कोई बात नहीं सुनता और वहाँ से चलाजाता है।


कुछ दिन गुजर जाते है। फिर राजा एक दिन अपनी तीनों बेटियों को अपने पास बुलाता है। और उनसे एक सवाल करता है

राजा ने तीनों बेटियों से सवाल करता है और पूछता है कि बताओ तुम किसका दिया खाती हो और किसका दिया पहनती हो?


बडी और दूसरे नंबर वाली बेटी ने एक ही जवाब दिया। उन्होंने कहा कि हम आपको दिया खाती है और आपका दिया ही पहनते हैं।लेकिन छोटी बेटी ने कहा कि मैं अपने खुदा का दिया पहनती हूँ और खुदा का दिया हुआ ही खाती हूँ। इंसान के पास कुछ नहीं जो किसीदूसरे इंसान को दे सकें। जो कुछ भी देता है वह खुदा ही देता हैइंसान तो बस जरिया बनता है।


छोटी बेटी का जवाब सुनकर राजा आज बहुत बहुत ज्यादा गुस्सा हो गया और उसने ये फैसला कर दिया कि छोटी बेटी को सजासुनाएगा। गुस्से में राजा ने अपने सिपाहियों को बुलाया और कहा कि इसने जो भी कीमती कपड़े और जेवर पहन रखे हैंइसकोउतरवाओ और इसे एक सादा कपड़ा पहनाकर घने जंगल में ले जाकर छोड़ दोयही इसकी सजा है।


दोनों  बड़ी बहनो ने  जब अपनी छोटी बहन की ये सजा को सुनी तो वो रोने लगीं। राजा के पैर पकड़ लिया और कहने लगीं कि इसे माफ़कर दीजिएछोटी है नादान हैलेकिन राजा इतने गुस्से में था कि उसने किसी की कोई बात नहीं सुनी और अपनी सिपाहियों से फौरनअपने सुनाई गई हुकुम की तामीर करने को कहा।


सिपाही भी मजबूर थे। वह राजा के हुक्म के ख़िलाफ़ नहीं जा सकते थे इसलिए उन्होंने वैसा ही किया जैसा कि राजा ने हुक्म दिया था।वह सबसे छोटी शहजादी को लेकर जंगल में गया और बीच घने जंगल में उसे छोड़ कर वापस लौट गए।


बेचारी शहजादी जंगल में अकेली इधर उधर भटक रही थी थोड़ी ही देर में अंधेरा हो गया। जंगल से जानवरों की आवाज सुनाई देनेलगी। शहजादी बहुत ही ज्यादा डर गई। वह सोचने लगी कि आज तो यह उसका आखिरी दिन होगालेकिन उसे अपनी किस्मत पर पूराभरोसा था। उसे ख़ुदा की रहमत पर पूरा भरोसा था , शहजादी ने अपने दिल ही दिल में सोचा। अगर यही ख़ुदा कि मर्जी है तो वे अपनीकिस्मत से राजी हैं।


ये सब सोचते हुए शहजादी जंगल में इधर उधर भटक रही थी तभी उसकी नजर एक लकड़ी के छोटे से घर पर पड़ी।

फौरन ही शहज़ादी घर की तरफ गयी आवाज लगाने पर अंदर से एक बूढ़ा आदमी बाहर निकलकर आया। क्योंकि शहजादी एकबिल्कुल साधारण से कपड़े में थी तो बूढ़ा आदमी उसे एक आम लड़की समझकर उससे कहने लगा कि तुम इस घने जंगल में अकेलीक्या कर रही होरात हो गया है फ़ोरन अंदर  जाओ। कभी भी कोई जंगली जानवर हमला कर सकते हैं।


बूढ़ा आदमी बहुत ही रहमदिल था। उसने शहजादी को अपने घर पर रख लिया और उसे कहने लगा कि बेटी तुम मेरी बेटी जैसी होआराम से इस घर में रहो जब तक तुम चाहती हो।


रात गुजर गई। अगले सुबह बूढ़ा आदमी शहर की तरफ जाने को निकला और उसने शहजादी से कहा कि घर में खाने पीने का सामानरखे हुए है। तुम खुद बना लेना और खा भी लेना। मुझे आने में 3 -4 दिन लग जाएंगे तब तक तुम अपना खयाल रखना और घर से बाहरमत निकलना।


बूढ़ा आदमी के जाने के बाद शहजादी बिल्कुल ही अकेले हो गई वह दिनभर अकेली क्या करें यह सोचकर उसने घर की सफाई करनाशुरू कर दियाघर की सफाई खत्म होते ही शहज़ादी को खयाल आया कि घर के बाहर भी कुछ सफाई कर दी जाए ताकि घर में आनेजाने का रास्ता साफ सुथरा दिखे।

यह सोचकर शहजादी घर के बाहर भी सफाई करना शुरू कर दी। सफाई करते करते अचानक शहजादी का पैर किसी चीज़ पर पड़ा।जब शहजादी वहाँ की मिट्टी को थोड़ा सा हटाकर देखी तो उसके अंदर से उसे बहुत सारी कीमती पत्थर दिखाई दिए। यह पत्थर बहुत हीचमकीले और बहुत ही खूबसूरत दिख रहे थे तो शहजादी ने उन्हें एक एक करके निकाल लिया। सारे पत्थर बाहर निकलने के बादशहजादी ने उसे गिनना शुरू किया। वह करीब १२ पत्थर थे और सभी पत्थर अलग अलग किस्म के थे और सभी बहुत ही चमकदार औरबहुत ही खूबसूरत दिख रहे थे। देखने से लग रहा था कि यह बहुत ही कीमती पत्थर है।


करीब 3 दिन के बाद जब बूढ़ा आदमी वापस घर आया,तो शहजादी ने उसे वो सारे पत्थर दिखाई और उसे बताया कि यह काफी कीमतीदिख रहे हैं। तो बूढ़ा आदमी कहने लगा की मैं कल सुबह फिर से शहर जाऊंगाआप इनमें से मुझे एक पत्थर दे दे। मैं इसे बेचने कीकोशीश करता हूँ। अगर यह बिक गयी तो हम दोनों का खर्चा निकल जाएंगे।


शहजादी ने वैसा ही किया, 12 में से  पत्थर बूढ़े आदमी को दे दिया और अगले दिन बूढ़ा आदमी शहर जाता है और उस पत्थर को बेचनेकी कोशीश करता है। पत्थर वाकई में बहुत ही ज्यादा कीमती था इसलिए बूढ़ा आदमी को उसकी बहुत ही अच्छी कीमत मीलती है जोकरीब लाखों में होती है।

बहुत ही खुशी खुशी बूढ़ा आदमी वापस अपने घर को लौट आता है। और साथ में खाने पीने की ओर घर की जरूरत की काफी सारीचीजें भी खरीद लाता है। बूढ़ा आदमी सारे सामान लेकर जब शहजादी के पास आता है तो शहजादी यह सब कुछ देखकर बहुत हीज्यादा खुश हो जाती है और फिर शहजादी के दिमाग में एक बहुत अच्छा विचार आता है।


वह बूढ़ा आदमी को और तीन पत्थर निकाल कर देती है और कहती है कि आप जाए इन सभी पत्थरों को इसी तरह से बेच कर अच्छे पैसेले लेना और वापस आते वक्त कुछ मजदूर को साथ लेकर आना। जैसा  की शहज़ादी ने कहाबूढ़ा आदमी बिल्कुल वैसा ही करता है।उन पत्थरों को काफी अच्छी कीमत में बेचता है और वापस लौटते वक्त कुछ मजदूर अपने साथ लेकर आता है। शहजादी मज़दूरों कोअपने घर के सामने के सारे इलाके को साफ सुथरा करने को कहती है और वहाँ एक बड़ा सा बागीचा बनाती है जिसमें तरह तरह कीसब्जियों ओर फलों को उगती है 


देखते ही देखते शहजादी अपने बगीचे के बिल्कुल सामने में एक बड़ा  सा महल बनवाना शुरू करवा देती है। मज़दूर दिन रात काम करतेहैं और 3 साल के अंदर ही एक बहुत बड़ा खूबसूरत सा महल और बहुत ही सुन्दर बागीचा शहज़ादी के लिए बनकर तैयार हो जाता है।इसी तरह से शहजादी धीरे धीरे अपने महल के आस पास के सारे इलाके को साफ सुथरा कर बहुत खूबसूरत बनवा देती है। जब लोगोंको इस बारे में पता चलता है तो धीरे धीरे बहुत सारे लोग भी वहाँ  कर बसना शुरू हो जाते हैं और शहजादी बहुत नर्मदिल होने केकारण सभी लोगों के लिए रोजगार भी पैदा कर देती हैजिसकी वजह से सभी लोग बहुत खुश हो जाते हैं।


शहजादी के नर्म दिल और नरम स्वभाव की वजह से सभी लोग शहजादी की बहुत ज्यादा इज्जत करने लगते हैं और ज्यादा से ज्यादालोग शहज़ादी  के साथ जुड़ने लगते है ,देखते ही देखते शहज़ादी की सेना भी बन कर तैयार हो जाती है और शहजादी की खुद की एकरियासत बन जाती है


शहजादी और उसकी रियासत की चर्चा आग की तरह बाकी जगह में फैलने लगती है और यह बात उसके पिता के कानों तक भी पहुंचतीहै , शहजादी के बारे में सुनकर राजा बहुत ही आश्चर्य होता है कि जीस जगह कल तक एक जंगल हुआ करता था। आज वहाँ एकरियासत खड़ी हो गयी है ,लेकिन राजा को यह बिल्कुल भी अंदेशा नहीं था कि यह शहजादी उसकी ही बेटी है।


सभी आसपास के राज्य के राजा शहजादी की चर्चा सुनकर उससे मिलने के लिए बहुत ही ज्यादा उत्सुक होते हैं।

इसलिए शहजादी 1 दिन अपने महल में एक बहुत ही बड़ा और शानदार दावत का आयोजन करती हैजिसमें वह आसपास के सभीराज्य के राजाओं को उनके परिवार के साथ निमंत्रण देती है।


दावत वाले दिन सभी आसपास के राज्यों के राजा अपने परिवार वालों के साथ शहज़ादी महल में पहुंचते हैं और उसी वक्त शहजादी केपिता अपनी दोनों बेटियों के साथ भी उस दावत में शामिल होने के लिए आते हैं। दावत की तैयारियां बहुत ही जोरशोर से की गई थीजिसकी वजह से सभी लोग दावत का बहुत आनंद उठा रहे थे।


सभी लोग शहज़ादी से मिलने के लिए बहुत ही ज्यादा उत्सुक होते हैं। आखिर कार शहजादी सबके सामने आती है शहजादी के कपड़ेउसके जेवरात देखकर सभी की आंखें खुली की खुली रह जाती है। लेकिन कोई भी शहजादी का चेहरा नहीं देख पाता क्योंकि शहजादीअपने चेहरे को ढकी हुई होती है।

लोगों के बार बार कहने के बाद भी शहजादी उन्हें मना कर देती है कि वह अपना चेहरा किसी को नहीं दिखा सकती।


आखिरकार एक शानदार दावत खत्म होती है और सभी राजा अपने परिवार वालों के साथ शहजादी को अलविदा कहते हुए वापिस अपनेअपने रज्ये लौटने लगते है।


शहजादी के पिता जब अपनी बेटियों के साथ शहजादी को अलविदा कहने के लिए आता है तो शहजादी उन्हें रोकती है और कहती है किमुझे आपसे कुछ कहना है और फिर शहजादी अपनी बहनों को और अपने पिता को लेकर अपने कमरे में जाती है। जहाँ पहले से एकदस्तरखान बिछा हुआ होता है और उसमें तरह तरह के पकवान सजे हुए होते हैंजिसमें से बहुत ही खूबसूरत खुशबू  रही होती है।


शहजादी अपने पिता से कहती हैं कि यह खाना मैने आपके लिए खुद अपने हाथों से बनाया है। आप इसे चक्कर मुझे बताया   कि   येकेस हैराजा ये सुनकर बहुत ही खुश हो जाता है कि एक राज्य की मलिका ने अपने हाथों से उसके लिए खाना बनाया है। फौरन से राजाअपनी बेटियों के साथ उस दस्तरख़ान में बैठ जाता हैं और शहजादी अपने हाथों से अपने पिता को खाना परोसती हैं और उन्हें खाने केलिए इशारा करती है।


राजा खाने का पहला निवाला जैसे ही अपने मुँह में रखते हैं तो उसे खाने में कोई स्वाद नहीं लगता और यह देखकर उसे अपनी सबसेछोटी बेटी की याद  जाती है। जीस तरह से उसके खाने में भी कोई स्वाद नहीं था।


पर राजा बिना कुछ कहे मुस्कुराते हुए खाना खाने लगता है तभी शहज़ादी उसे रोकती है और कहती है कि आप यह खाना  खाएं क्योंकिइसमें नमक नहीं है। थोड़ा रुके और शहजादी बगल के नमक उठाकर खाने से मिला देती है और कहती है अब खाएं और बताएं कि येकैसा है?


थोड़ा सा नमक खाने से मिलते ही खाने का स्वाद बहुत ही ज्यादा बढ़ जाता है। खाना वाकई में बहुत ही लज़ीज़ होता है बस थोड़ी सीनमक की कमी के कारण वो बेस्वाद लगता है और जब नमक उसमें मिल जाती है तो वह स्वादिष्ट बन जाता है।


खाना खत्म होने के बाद शहजादी अपने पिता और दोनों बहनों कुछ कपड़े तोहफे के तौर पर देती है। कपड़े में कोई भी कीमती चीज़ नहींलगी होती हैलेकिन शहजादी उन कपड़ों के साथ में बहुत ही कीमती जेवरात भी राजा और अपनी बहनों को तोफ़े  में देती है जिसकोकपड़े के साथ मिलने के बाद कपड़ा क़ीमती बन जाता है 


यह सब देखकर राजा को अपनी छोटी बेटी की बहुत ज्यादा याद आती है और वह शहज़ादी से कहते हैं कि एक बार मुझे अपना चेहरादिखाई क्योंकि मैं आपके पिता की तरह हूँमुझसे कैसी शर्म आप मेरी बेटी की तरह हो। मुझे आपका चेहरा एक बार तो देखना है।आपने इतनी ख़िदमत मेरी की है ऐसा तो कोई बेटी ही कर सकती है। शहजादी राजा की बात सुनकर बहुत खुश होती है और कहती हैंज़रा रुकिए मैं 5 मिनट में वापस आती हूँ।


थोड़ी देर के बाद शहजादी उसी सादे कपड़े में वापस लौटती हैं जिस सादे कपड़े में उसके पिता ने उसे अपने महल से निकला था। अपनीबेटी को देखकर राजा बहुत ही ज्यादा खुश होता है और उसकी बहनें भी बहुत ज्यादा खुश होती है। वो तीनो शहज़ादी से गले मिलनेलगते हैं और कहते हैं कि तुम जिंदा हो। हमें लगा कि तुम्हें कोई जंगली जानवर खा गया होगा।


राजा रोते हुए कहता है कि मुझे अपनी गलती पर बहुत ज्यादा अफसोस है। मैने उस दिन गुस्से में तुम्हारे साथ बहुत गलत किया लेकिनजैसे ही मेरा गुस्सा ठंडा हुआ मैने अपने सैनिक भेजे। तुम्हें ढूंढने के लिए हफ्ते भर  सैनिक तुम्हें ढूंढ़ते रहे मगर तुम कहीं नहीं मिली तो हमेंलगा कि शायद तुम किसी जंगली जानवर का शिकार बन गई हो।


राजा यह सोच रहा था कि उसकी बेटी इस महल में कोई नौकरानी के तौर पर है तो वह अपनी बेटी से कहता है कि मैं इस महल कीमल्लिका से कहूंगा कि तुम्हें  आज़ाद कर दें और उसके बदले में उसे जो चाहिए मैं दूंगा। अगर वह मुझसे मेरा पूरा राज्य भी मांगी तो मैं वोभी देने को तैयार हूँ लेकिन मैं आज तुम्हें यहाँ से लेकर जाऊंगा।


राजा की बात सुनकर शहजादी मुस्कुराती है और कहती है कि मैं यहाँ की मलिका हूँमैं यहाँ की शहजादी हूँ ये पूरा महल मेरा है। यहपूरा राज्य मेरा है। शहजादी की बातें सुनकर राजा और उनकी बेटियों को बिल्कुल भी यकीन नहीं होता। उन्हें लगता है कि शहजादी कादिमाग ख़राब हो गया है। वह अपने आप को इस महल की मलिका समझ रही है। फिर शाजादी अपने गले का वो हार निकालकर राजाको दिखाती है जिसमें वह कीमती पत्थर लगे हुए होते हैं जिसकी वजह से वो आज एक राज्य की मलिका बन चुकी है। कीमती पत्थरों सेसजे उस हार को देखकर राजा और उनकी बेटियों को पूरा यकीन हो जाता है कि हाँशहजादी जो भी कह रही है वो सच है। वही इसमहल की मल्लिका हैं। फिर शहज़ादी रोते हुए अपने पिता के गले लग जाती है और कहती है कि मैं आपसे बहुत ज्यादा मोहब्बत करतीहूँआपने मुझे गलत समझ लिया। मैं जिस दिन आप के लिए वह खाना बना कर रखी थी और उसमें नमक नहीं था तो मैं जान बूझकरनहीं डाली थी क्योंकि मैं आपको बताना चाहती थी कि एक महीने तक जब आप बाहर गए थे तो मेरी जिंदगी भी उस खाने की तरहबेस्वाद हो गई थी क्योंकि आप मेरी जिंदगी में इस नमक की तरह है जो खाने में  रहे तो खाना बेस्वाद हो जाता है।


और जो कपड़ा मैने आप को तोहफे में दिया थाजो आपको मामूली लगा और उसे उठाकर अपने फेंक दिया तो मैं आपको बस यहबताना चाहती थी। कपड़ा चाहे जितना भी मामूली हो और जितना भी कीमती क्यों  उसका काम शरीर को ढकना ही होता है। मैं बसआपको यह बताना चाहती थी कि आप मेरी जिंदगी में उस कपड़े की तरह हो जो मेरे  हर ज़रूरत  को   करता है।


और फिर शहजादी कहती हैंजब आपने मुझसे पूछा कि तुम किसका दिया पहनती है और किसका दिया खाती हूँ तो आज आप खुद हीदेख रहे है ख़ुदा ने मुझे कहाँ से कहाँ पहुँचा दिया 


इसलिए मैं कहती थी कि मैं ख़ुदा का दिया ही पहनती हूँ और खुदा का  दिया ही खाती हूँ। 


शहजादी की सारी बातें सुनकर राजा बहुत शर्मसार हुआ और वह सोचने लगा कि उसने अपनी बेटी के साथ कितना जुल्म कर दियालेकिन ये तो खुदा की मर्जी थी। खुदा की मेहरबानी थी कि वह एक इतने बड़े राज्य की मलिका बन चुकी है।


Moral of this Inspirational short story is:-


कभी भी किसी को समझने में जल्दबाजी नहीं करनी चाहिए। क्योंकि जो बाहर से दिखता है जरूरी नहीं अंदर भी वही हो।


















Post a Comment

2 Comments

  1. This is very nice post, and thankyou for sharing this nice post...
    Read Hindi Story please visit kahanikiduniya.in site for best hindi stories, Moral Kahani, Dadi maa ki kahaniya, Dharmik book story... lot of things, You can Read in Hindi language....

    ReplyDelete

Plz do not put any negative comment.